शनिवार, 22 अक्तूबर 2016

कविता

कविता 
यहाँ  एक  नगर  था  

यहाँ  एक  नगर  था 
कुछ  आदमी  रहा  करते  थे 
कुछ  औरतें  गुनगुनाया  करती  थी 
कुछ  बच्चे  खिलखिलाया  करते  थे 

इधर  इस  मोड़  पर एक चौक  था 
घरों  के  बाहर  चबूतरे  थे 
जहाँ  घंटों  बैठक  जमा  करती  थी 
ताश  और  चौसर  चला  करती  थी 
एक  पेड़  था  जिसकी  छाँव  में 
धूप  सुस्ताया  करती  थी 

दीवारों  पर  चित्र  हुआ  करते  थे 
हाथी  घोडा  पालकी  जय  कन्हैया  लाल  की 
एक  खामोश  गीत  सुनाई  पड़ता  था 
जिसे  ख़ामोशी  खुद  सुनाया  करती  थी 

उधर  उस  मोड़  पर  हाट  था 
ये  पूरा  नगर  का  नगर  कैसे  बाजार  हो  गया 
ये  इतने  दूकानदार  किस  देश - विदेश  से  आये  हैं 
यहाँ  एक  नगर  था  उस  नगर  का  क्या  हुआ