शनिवार, 22 अक्तूबर 2016

कविता

कविता 
यहाँ  एक  नगर  था  

यहाँ  एक  नगर  था 
कुछ  आदमी  रहा  करते  थे 
कुछ  औरतें  गुनगुनाया  करती  थी 
कुछ  बच्चे  खिलखिलाया  करते  थे 

इधर  इस  मोड़  पर एक चौक  था 
घरों  के  बाहर  चबूतरे  थे 
जहाँ  घंटों  बैठक  जमा  करती  थी 
ताश  और  चौसर  चला  करती  थी 
एक  पेड़  था  जिसकी  छाँव  में 
धूप  सुस्ताया  करती  थी 

दीवारों  पर  चित्र  हुआ  करते  थे 
हाथी  घोडा  पालकी  जय  कन्हैया  लाल  की 
एक  खामोश  गीत  सुनाई  पड़ता  था 
जिसे  ख़ामोशी  खुद  सुनाया  करती  थी 

उधर  उस  मोड़  पर  हाट  था 
ये  पूरा  नगर  का  नगर  कैसे  बाजार  हो  गया 
ये  इतने  दूकानदार  किस  देश - विदेश  से  आये  हैं 
यहाँ  एक  नगर  था  उस  नगर  का  क्या  हुआ 
                                                                                                 

बुधवार, 12 अक्तूबर 2016

कविता

कविता 
नींद  में   स्री 

कई  हज़ार  वर्षों   से 
नींद  में   जाग   रही   है   स्री 
नींद   में   भर    रही   है   पानी 
नींद   में    बना   रही  है   व्यंजन 
नींद   में     बच्चों   को  
खिला  रही   है   दाल   चावल 

पूरे   परिवार   के  कपडे   धोते   हुए 
झूठे   बर्तन   साफ़   करते  हुए  
थकती   नहीं   स्त्री 
हजारों   मील   नींद   में  चलते   हुए 

जब  पूरा  परिवार 
सो  जाता  है  संतुष्ट  हो कर 
तब  अँधेरे  में 
अकेली   बिलकुल   अकेली 
नींद  में  जागती   रहती   है   स्त्री  

कई   हजार  वर्षों  से 
नींद   में    कर   रही   है   प्रेम 
           -------------



शुक्रवार, 7 अक्तूबर 2016

कविता

कविता 
-------------
सत्य   का     चेहरा 
-----------------------
सत्य  का  एक  चेहरा  होता  है 
रंगहीन   भी   नहीं   होता   सत्य 
लेकिन   झूठ  की  तरह  हर  कहीं 
नहीं   पाया   जाता 
न  ही  झूठ  में  घुल  पता  है   सत्य
अगर   होता  है  कहीं .
अलग   से   दिव्य  आलोक लिए 
दमकता  रहता है   सत्य 

कुछ   लोग    निरन्तर 
सत्य   की  खोज  में 
भटक   रहे  हैं   आज  भी 
जबकि  कुछ  लोग  दावा  कर  रहे  हैं 
उन्होंने  खोज  लिया   है   सत्य 
जिसे  वे  सत्य  कह  रहे  हैं 
हजार  बार  बोला  गया  झूठ  है 
रगड़   रगड़   कर पैदा  की  गई   चमक  है 
वे  आनंदित  प्रमुदित  हैं  अपनी खोज  पर  
उन्होंने  पा  लिया  है   सत्य   का   रहस्य 

हे   ईश्वर 
उन्हें  बता   कि    सत्य   क्या  है.