सोमवार, 12 सितंबर 2016

कविता

कविता 
-----------
शून्य  में 
-----------
कई   बार   शून्य   में 
चला  जाता    हूँ    मैं 

एक  बेहद  लंबी  
सैकड़ों    मील   दूर   तक   फैली   सुरंग 
जिसमें   न    हवा    है   न   ही   जल 
कहीं   कोई   प्रकाश   छिद्र   भी   नहीं 
निस्तब्ध   निर्वाक   अपने   क़दमों   की 
पदचाप   भी   सुनाई   नहीं    देती 

जहाँ   न   शब्द   है   
न    ही   शब्दों   के   अर्थ  
न   ही   शब्दों   के   बीच   छूटी   खाली   जगह 

एक    निराकार 
ध्यानस्थ    भारहीन 
रूई   के   फाहे   सा 
तैरता   रहता   हूँ   शून्य   में 
किसी   गहन   अँधेरे    में 

फिर    लौटना   नहीं   चाहता 
कोलाहल  में 
                      ----------
(  काव्य  -- संग्रह   "  बची   हुई   हंसी   "  से   एक  कविता  )