सोमवार, 5 सितंबर 2016

कविता

कविता 
-----------
उदास  दिनों  में 
--------------------
अपने  सबसे  उदास   दिनों   में  भी 
इतना   उदास  नहीं  था   मैं  

तब   उदास  होने   के  लिए 
कुछ  भी  जरूरी  नहीं  था 

पेड़ों   से   झर   रहे   हो   पत्ते   तो 
उदास   हो  जाया  करता   था   
मेघों   से   टपक   रही   हों   बूंदें 
तो  उदास   हो  जाया  करता  था 

मेरे   सबसे   उदास   दिनों  में 
इतने   बुरे   नहीं  थे   लोग 
अपने   सबसे   बुरे  दिनों   में 
सबसे   अच्छे   मित्रों   के   साथ   रहा   मैं 

पृथ्वी   के  सबसे   उदास   दिनों  में   भी 
सबसे    अच्छे   मित्रों   के  साथ 
रहना   चाहता   हूँ  मैं 
                  --------------
(  काव्य  -  संग्रह   "  उदाहरण   के  लिए   आदमी  "  से  )