बुधवार, 19 सितंबर 2012

कविता 
------------
पुरस्कार - सम्मान

----------------------------

जिस तरह

पैसे और पानी का

कोई रंग नहीं होता

उसी तरह

पुरस्कार - सम्मन का भी

कोई रंग नहीं होता


पुरस्कार सम्मान

कहीं से भी मिले

ले लेना चाहिए


पुरस्कार सम्मान

लेते समय

विचार धारा को
दर किनार कर देना चाहिए

पुरस्कार-सम्मान
किसी सेठ साहूकार का हो
या अकादमी सरकार का
चाहे दे रही हो कोई विदेशी कम्पनी
अन्तोगत्वा हमारी
रचनात्मकता का सम्मान ही है

पुरस्कार -सम्मान
कंचन की तरह पवित्र होते है
कहा भी है किसी कवि ने 

परयो अपावन ठोर पर 
कंचन तजे ना कोय 
--
-------------------------------------
{" शेष" जुलाई-सितम्बर- २०१२  में प्रकाशित }